विवादों के बावजूद पहले दिन उड़ान नहीं भर पाई 'उड़ता पंजाब'

विवादों के बावजूद पहले दिन उड़ान नहीं भर पाई 'उड़ता पंजाब'

मुंबई। सेंसर बोर्ड के साथ लंबे संघर्ष के बाद रिलीज हुई फिल्म 'उड़ता पंजाब' पहले दिन बॉक्स आफिस पर कमाल नहीं दिखा सकी। सिनेमाघरों, खासतौर पर सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों में कम लोग फिल्म देखने पहुंचे। लेकिन, लोगों की प्रतिक्रिया से ऐसा लगा कि फिल्म ने अपनी गहरी छाप छोड़ी है। पंजाब में नशीली दवाओं की समस्याओं पर आधारित फिल्म के वितरकों को पहले दिन निराशा हाथ लगी है। फिल्म ने मल्टीप्लेक्स में अपेक्षाकृत बेहतर कारोबार किया है। वितरक राजेश थडानी ने बताया कि फिल्म की शुरुआत औसत रही और मुझे लगता है कि फिल्म ने पहले दिन सिर्फ 8 से 9 करोड़ रुपये का कारोबार किया। यह उम्मीद से कम है। फिल्म से जुड़े विवादों के बावजूद ऐसी शुरुआत उत्साहजनक नहीं कही जा सकती। शाहिद कपूर, आलिया भट्ट, करीना कपूर खान और दिलजीत दोसांझ अभिनीत फिल्म लगभग 2000 सिनेमाघरों में रिलीज हुई। राजेश थडानी ने बताया कि फिल्म की ओपनिंग न सिंगल स्क्रीन सिनेमाघरों में और न ही मल्टीप्लेक्स में अच्छी हुई। कुछ ही जगहों पर फिल्म ने अच्छा कारोबार किया है। उन्होंने कहा कि विवादों को देखते हुए बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की अच्छी शुरुआत होने की उम्मीद थी, लेकिन हैरान कर देने वाली बात है कि फिल्म की कमाई उत्साहजनक नहीं है। फिल्म रिलीज होने से पहले केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड ने फिल्म में 89 कटौती का सुझाव दिया था, लेकिन इसके बाद पुनरीक्षण समिति ने 13 कटौती के लिए कहा। फिल्म निर्माता मामले को बंबई उच्च न्यायालय में ले गए जहां इसे एक कट के साथ रिलीज की मंजूरी मिल गई। लेकिन, मुसीबत यहीं खत्म नहीं हुई। फिल्म रिलीज होने से पहले ही ऑनलाइन लीक कर दी गई। पंजाब में फिल्म के वितरक सुरिंदर सलूजा ने बताया कि पहला शो अच्छा नहीं रहा, लेकिन बाद के शो हाउसफुल रहे। सलूजा ने कहा कि फिलहाल सभी मल्टीप्लेक्स हाउसफुल हैं, लेकिन सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर में दर्शक बहुत कम हैं। गेटी गैलेक्सी और मराठा मंदिर सिनेमा के कार्यकारी निदेशक मनोज देसाई ने कहा कि सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर के लिए फिल्म बुरी खबर साबित हुई है। केवल 50 फीसदी टिकट बिकी। कई लोग तो इंटरवल में चले गए। सिंगल स्क्रीन सिनेमाघर में इसके चलने की उम्मीद नहीं है।